आइए जानते है लाखों साल पहले हिन्दू धर्म में बताई गई भविष्यवाणी आज की विज्ञान से कैसे सम्बन्ध रखती है।

KnowledgeGyan 9:21 PM
विष्णु पुराड़ VS विज्ञान

आइए जानते है लाखों साल पहले हिन्दू धर्म में बताई गई भविष्यवाणी आज की विज्ञान से कैसे सम्बन्ध रखती है। 

                            साइंस और धार्मिक संकल्पनाओं मैं हमेशा से मतभेद होते रहे हैं , लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि कैसे डार्विन की बताई हुई प्रसिद्ध Theory of evolution में उन्होंने जो दावा किया था मनुष्य के विकास के बारे में, उन्होंने जो संकल्पना रखी थी, वह आज से लाखों साल पहले हिन्दू धर्म में बताई जा चुकी है।
                    डार्विन ने Theory of evolution में बताया था कि इस पृथ्वी पर जीवन कैसे विकसित हुआ पृथ्वी पर सारे प्राणी किस क्रम में आए थे और इंसान का विकास कैसे हुआ ।

               
                     जैसा की हम सभी लोगों को पता है कि विष्णु के 10 अवतार हुए थे आज हम उन्हीं 10 अवतारों के बारे में चर्चा करेंगे और आपको बताएंगे कि कैसे विष्णु पुराण में 10 अवतार और डार्विन की बताई हुई थ्योरी ऑफ इवोल्यूशन में समानता है ।
            1. हम सब ने साइंस में पड़ा है कि हमारी पृथ्वी पर पहले सिर्फ पानी ही पानी था और इस पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत भी पानी में ही हुई थी ऐसा डार्विन ने कहा लेकिन हम भगवान विष्णु की बात करें तो उनका पहला अवतार था मत्स्य अवतार यानी मछली का अवतार जोजो पा में अवतरित हुआ था जो यह भी साबित करता है कि जीवन की शुरुआत पानी में ही हुई थी ।

           2. डार्विन के अनुसार पानी पानी के बाद जीवन धरती पर पहुंचा और विष्णु अवतार की बात की जाए तो उनका दूसरा अवतार था कच्छप अवतार जो यह दर्शाता है कि जीवन पानी से धरती पर पहुंचा अर्थात जीवन धरती और पानी में दोनों जगह रहने में सक्षम था ।

         3. विष्णु अवतार में तीसरा अवतार था बराह अवतार जो पूर्ण रुप से धरती पर रहने के लिए सक्षम था और यह अवतार जीवन को पानी से धरती पर आने की वैज्ञानिक संकल्पना को साबित करता है ।

          4. जब जीवन धरती पर पूर्ण रूप से विकसित होने लगा और इंसान की शुरुआत होने लगी तो धरती के कुछ जीवों की प्रजातियों का मानव के रूप में विकास होने लगा । लेकिन यहां पर इंसानों की ऐसी अवस्था थी जिसमें इंसानों का शारीरिक विकास तो हो रहा था लेकिन मानसिक विकास नहीं हो रहा था मतलब इंसान ना तो पूर्ण रूप से इंसान था और ना ही पूर्ण रूप से वह जानवर ।
            अब हम देखते हैं भगवान विष्णु का अगला अवतार जो नरसिंह अवतार था यह आधा जानवर और आधा इंसान था यह अवतार जानवर को इंसान से विकसित इंसान को दर्शाता है ।

            5. डार्विन  ने Theory of evolution मैं दर्शाया है कि इंसान के विकसित होने का जो क्रम है वह पहले छोटा था और फिर धीरे-धीरे बढ़ता गया भगवान विष्णु का पांचवा अवतार भी ऐसे मनुष्य का अवतार है जो कद काठी से छोटा था यह अवतार था वामन अवतार ।

           6.  इंसानों का जैसे-जैसे मानसिक विकास होता गया वह गुफाओं में रहने लगा और अपनी रक्षा करने के लिए पत्थरों से बने औजारों का इस्तेमाल करने लगा अब हम भगवान विष्णु का अगला अवतार देखें तो उनका अगला अवतार था परशुराम अवतार जिसे बनवासी के नाम से भी जाना जाता है भगवान परशुराम गुफाओं में रहते थे और पत्थर और लकड़ियों से बने हथियारों का इस्तेमाल करते थे भगवान विष्णु का यह अवतार दर्शाता है कि कैसे इंसान वनों को काटकर गुफाओं में रहने लगा ।

           7. डार्विन के अनुसार इंसान पूरी तरह से मानसिक और शारीरिक रूप से विकसित हो चुका था और वह मिल जुलकर के रहने लगा था एक अपना परिवार बनाने लगा था और एक दूसरे का सम्मान करने लगा , परशुराम अवतार के बाद अगला अवतार जो था वह था भगवान श्री राम का अवतार , उनके राज्य में उन्होंने लोगों का काफी विकास किया उनकी रक्षा की और धर्म की रक्षा कैसे करते है वह लोगों को सिखाया ।

           8.  जब सारे इंसान एक साथ परिवार में रहने लगे तो उन्होंने स्वाभाविक रूप से रहने और खाने के तौर-तरीके खोजने शुरू कर दिए इस अवस्था में इंसानों ने खेती की शुरुआत की, खाद्य पदार्थों का उत्पादन करना शुरू कर दिया, कृषि आधारित जीवन की शुरूआत होने लगी भगवान विष्णु का आठवां अवतार है बलराम अवतार जिनको पुराणों में कंधों पर हल लिए हुए दिखाया है ऐसा कहा जाता है कि तब से ही मनुष्य ने खेती की शुरुआत की ।

               9. जब फिर इंसानी सभ्यताओं में वह दौर आया जब साम्राज्य बने युद्ध लड़े गए सामाजिक परेशानियां उत्पन्न हुई और उस समाज का निर्माण हुआ जिसमें आज हम रह रहे हैं हिंदू पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु का नौवां अवतार भगवान श्री कृष्ण के रूप में हुआ था यह अवतार पूर्ण विकसित मानव सभ्यता को दर्शाता है भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता में जो उपदेश दिया था वह आज की सारी परेशानियों को भी दर्शाता है ।

            

Share this

Related Posts

First